आईपीएल खेलने से बैन हो चुके हैं ये 5 खिलाड़ी

Arrow

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज एस.श्रीसंत को IPL 2013 के दौरान स्पॉट फिक्सिंग के मामले में दोषी पाए जाने के बाद BCCI द्वारा आजीवन के लिए क्रिकेट से बैन किया गया था, उस सत्र में श्रीसंत राजस्थान रॉयल्स की टीम का हिस्सा थे। 

महाराष्ट्र का ये गेंदबाज अपनी स्पिन गेंदबाजी के लिए जाना जाता है। 48 वर्षीय इस खिलाड़ी पर BCCI द्वारा पिछले साल IPL से पहले प्रतिबंध लगाया था। प्रवीण तांबे ने BCCI के नियमो का उल्लंघन करते हुए 2018 में UAE में खेली गई टी-10 लीग में भाग लिया था.

साल 2009 के दौरान जडेजा को BCCI द्वारा IPL के एक सत्र के लिए बैन किया गया था. उस समय वे राजस्थान की टीम का हिस्सा हुआ करते थे। जडेजा पर आरोप था कि वे अन्य टीमो से अधिक वेतन के लिए संपर्क में रहते हैं जो कि एक बहुत बड़ा उल्लंघन था. 

2013 आईपीएल में अजीत चंदीला राजस्थान रॉयल्स का हिस्सा रहे थे. उन्हें भी श्रीसंत के साथ स्पॉट फिक्सिंग के मामले में दोषी करार दिया गया था. जिसके बाद अजीत पर आजीवन का प्रतिबंध लगाया गया था. हालांकि अजीत ने इस आरोप को  मानने से इनकार करते हुए इसे गलत करार दिया था.

अंकित चव्हाण  भी श्रीसंत और अजीत चंदीला के साथ स्पॉट फिक्सिंग के मामले में आईपीएल 2013 के दौरान दोषी पाए गए थे. जिसके बाद बीसीसीआई ने उन पर आईपीएल का आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था.

साल 2012 में ल्यूक पोमर्सबैच IPL में RCB की टीम की तरफ से खेले। लेकिन एक मैच के दौरान दिल्ली के एक होटल में उनका नाम एक महिला के साथ छेड़छाड़ करने और मारपीट करने के कारण सुर्खियों में आ गया, इसके बाद उन्हें RCB की फ्रेंचाइजी ने भी अपनी टीम से बैन कर दिया।

हरभजन सिंह IPL के पहले ही सीजन से मुंबई के लिए खेल रहे थे। मुंबई के लिए खेलते हुए उनकी IPL में बहुत ही खराब शुरुआत रही क्योंकि उन्होंने पहले ही सीजन में पंजाब के पूर्व तेज गेंदबाज श्रीसंत को मैच के खत्म होने के बाद किसी बात को लेकर थप्पड़ जड़ दिया था। इस थप्पड़ की गूंज काफी सुनाई दी। इसी कारण से भज्जी को बाकी बचे सीजन से बैन कर दिया था।

IPL मे दिल्ली के लिए एक शानदार तेज गेंदबाज के रूप में शामिल रहे मोहम्मद आसिफ पर अगले ही सीजन यानि 2009 में स्थिति खराब हो चली और उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। उन्हें ड्रग लेने के आरोप में गुनाहगार साबित किया। इनके यूरिन में ड्रग की मात्रा पाई गई जिसके बाद तो उन्हें बैन कर दिया गया।